पत्थर सुलग रहे थे कोई नक्श-ए-पा न था

पत्थर सुलग रहे थे कोई नक्श-ए-पा न था
हम उस तरफ़ चले थे जिधर रास्ता न था

परछाईयों के शहर की तनहाईयां न पुछ
अपना शरीक-ए-ग़म कोई अपने सिवा न था

यूं देखती हैं गुमशुदा लम्हों के मोड से
इस जिंदगी से जैसे कोई वास्ता न था

चेहरों पे जम गई थी ख़यालों की उलझनें
लफ़्जों की जुस्तजु में कोई बोलता न था

मुमताज राशीद.

2 comments:

Ganesh Dhamodkar said...

Gazalo.n ko kuch to title diya karo Mr.Kailash!
Archieves me bina title ki gazle.n achchhi nahi dikhti.

India's Ujjwal said...

HI kailash,
Its a real nice collection and the best part is they are in devnagri script. Great work. Kudos!