किसने वादा किया है आने का

किसने वादा किया है आने का
हुस्न देखो ग़रीबख़ाने का

रूह को आईना दिखाते हैं
दर-ओ-दीवार मुस्कुराते हैं

आज घर, घर बना है पहली बार
दिल में है ख़ुश सलीक़गी बेदार

जमा समाँ है ऐश-ओ-इश्रत का
ख़ौफ़ दिल में फ़रेब-ए-क़िस्मत का

सोज़-ए-क़ल्ब-ए-कलीम आँखों में
अश्क-ए-उम्मीद-ओ-बीम आँखों में

चश्म-बर-राह-ए-शौक़ के मारे
चाँद के इंतज़ार में तारे

जोश मलीहाबादी

2 comments:

Ganesh said...

Hi Kailash, i just came to your blog, but sorry my cell doesnt support unicode... Oh, wish i cud read it...
Anyways, keep it up, i wud be checkin it from d pc...
Cya :) ~Ganesh

omprakash said...

hi dear
it nice to see u on this blog
it really fell great when read such nice collection
hope u continue the thing u start for us
all the best
.... missing the old memories...
......................atul